Welcome to BookShop Online Shop!
Sale

Kai Basant Dekhe Hai Maine !

40.00150.00

बसंत के महीने में जब खूबसूरत से पीले गुल हर तरफ़ खिल उठते हैं, तो ज़हन भी ख़ुशी से झूम उठता है| पर ज़िंदगी में हरदम तो बसंत नहीं रहता है ना? जब बसंत बीत जाता है, तो आफ़ताब के तेज से हम क्या, क़ुदरत भी झुलस उठती है| यूँ तो बारिश भी मन को आशिकाना बना देती है, पर कभी-कभी वो भी बाढ़ साथ लेकर आती है| और फिर, ठंड के मौसम में तो हर तरफ धुंध ही धुंध छा जाती है| यदि हम अपने ज़हन को ख़ुशी से लबरेज़ कर दें, और उसमें ही बसंत भर दें, तो चाहे बाहर कितनी ही विपरीत परिस्थितियाँ क्यों न हों, मन कभी हार नहीं मानेगा और मुस्कुराते हुए गम के हर दरिया को पार कर लेगा| अपने इन्हीं एहसासों के मोतियों को पचास नज़्मों की लड़ियों में पिरोकर, लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड होल्डर, नीलम सक्सेना चंद्रा, अपने काव्य संग्रह – “कई बसंत देखे हैं मैंने” में पेश कर रही हैं|

SKU: N/A Categories: , , , ,
Clear
Add to Wishlist
Add to Wishlist
Compare

Additional information

Book Author

Neelam Saxena Chandra

ISBN NO

978-93-87939-520-3

Language

Hindi

No of Pages

72

Publication

Saptarshee Publication

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

×
×

Cart